10 महत्वपूर्ण सवाल (कोरोना वायरस): क्या चीन ने धोखा देकर आर्थिक विश्व विजय हासिल कर ली है?

10 महत्वपूर्ण सवाल चीन की भूमिका पर - चीन (China) ने धोखा देकर आर्थिक विश्व विजय हासिल कर ली है….!! उसने सबसे पहले कोरोना वायरस (Corona virus) की वैक्सीन बनाई और तब तक अपने फ्रिजों में रखी जब तक पूरे विश्व की आर्थिक अर्थव्यवस्था को पाताल में नहीँ उतार दिया। चीन पूरी दुनिया के इन्वेस्टर्स का हब बन गया था।

क्या चीन ने कोरोना वायरस वैक्सीन को छिपा कर रखा था ?

चीन ने अपने वुहान (Wuhan) शहर में कोरोना वायरस को छोडा और जबरदस्त मौतों के कारण भागते इन्वेस्टर्स के शेयरों को कौडी के भाव खरीद लिये और विदेशी निवेशक और उद्यमी अपनी पूंजी छोड़ कर भाग गये ।

चीन ने अपने द्वारा पहले से बनाई और छुपा कर रखी गई वैक्सीन को बाहर निकाल लिया और एक ही दिन में चीन हो रही मौतों को रोक दिया। इस युद्ध में चीन ने अपने कुछ लोग खोये पर पूरी दुनिया की दौलत लूट ली। आज वहाँ एक भी मौत नहीँ हुइ और न ही एक भी मरीज की संख्या बढी । आज कोरोनावायरस पूरी दुनिया में काल की तरह चक्कर लगा रहा है।

coronavirus-india-news

कमाल ये भी देखिये, उन सभी देशों और शहरों की कमर टूट गई है जहाँ पर चीनी नागरिक खर्च करते थे। आज पूरा विश्व हर रोज अपनी अर्थव्यवस्था को ध्वस्त होते देख रहा है। पर 17 मार्च सै चीन की अर्थव्यवस्था दिनों दिन मजबूत हो रही है।

क्या यह एक विश्व आर्थिक युद्ध बन गया है ?

ये एक आर्थिक युद्ध ( Economic War ) है जिसमें चीन जीत चुका है और विश्व कुदरत से युद्ध करते करते रोज अपने जान माल को गंवा रहा है।

ये भारत के लोगों का इम्यून है कि वह हर संकट में कुशल यौद्धा की तरह लडता है और जीतता है।हमारे देश के अधिकांश नागरिक इकनोमी के आकंडो में नहीँ फसते, पत्थर में से पानी निकालने की कुव्वत रखते हैं। हम भारतीय बडे से बडे रोग को रोटी के टुकड़े में लपेट कर खाने और पचाने में माहिर हैं।

More We Recommend  भारत में कोरोनावायरस से संक्रमित लोगो की संख्या बढ़कर हुयी 1000, आखिर कब खत्म होगा यह महामारी प्रकोप ?

हम कभी कुदरत के विरुद्ध युद्ध नहीँ करते बल्कि उसकी पूजा करते हैं। हम भारतीय मन्दिरों , गुरुद्वारों से आवाज दे दे कर बुलाते हैं ईश्वर को रिझाते हैं अतः वो ईश्वर हमारा अनिष्ट कर ही नहीँ सकता।

पर हर भारतीय को याद रखना चाहिए कि चीन और चीनी इस कुदरत के खल नायक है इनसे हर प्रकार की दूरी बनाए रखें।

कोरोना वायरस को लेकर चीन की भूमिका पर 10 महत्वपूर्ण सवाल

आगे पढ़िए वो 10 महत्वपूर्ण सवाल आखिर क्या है ---

#1 - जहां पूरी दुनिया इससे प्रभावित हो रही है, वहीं चीन में वुहान के अलावा यह क्यों कहीं नहीं फैला? चीन की राजधानी आखिर इससे अछूती कैसे रह गयी?

#2 - प्रारंभिक अवस्था में चीन ने पूरी दुनिया से इस वायरस के बारे में क्यों छुपाया?

#3 - कोरोना के प्रारंभिक सैंपल को नष्ट क्यों किया?

#4 - इसे सामने लाने वाले डॉक्टर और पत्रकार को खामोश क्यों किया? पत्रकार को तो गायब ही कर दिया गया है?

#5 - दुनिया के अन्य देशों ने जब सूचना साझा करने को कहा तो उसने सूचना साझा क्यों नहीं किया? मना क्यों किया?

#6 - कोरोना मानव से मानव में फैलता है, इसे छुपाने के लिए WHO (World Health Organization) के कम्युनिस्ट निदेशक का उपयोग क्यों किया गया? WHO के निर्देशक जनवरी में "बीझिंग (चीन)" में क्या कर रहे थे?? क्या प्लान फिक्सिंग कर रहे थे ?

#7 - WHO, 11 जनवरी तक यह tweet क्यों करता रहा कि .. " किसी भी अंतरराष्ट्रीय उड़ान के लिए कोई गाइडलाइन जारी करने की जरूरत नहीं है, क्योंकि यह मानव से मानव में नहीं फैलता है " …. ??? आज साबित हो गया कि कोरोना मानव से मानव में फैलता है… तो फिर WHO ने झूठ क्यों बोला ??

More We Recommend  सारा अली खान ग्रेजुएशन के चार साल वाले दिनों को लेकर हुयी उदास, शेयर करी फोटोज

#8 - वुहान से एक साथ 50,00,000 लोगों की बिना मेडिकल जांच किए दुनिया के अलग-अलग हिस्से में क्यों भेजा गया ..??

#9 - कोरोनावायरस इटली (Italy) में 6 फरवरी तक मामूली केस था। एका एक चीनी 'हम चीनी हैं वायरस नहीं, हमें गले लगाइए।' प्लेकार्ड के साथ दुनिया के पर्यटन स्थल ' सिटी ऑफ लव ' के नाम से मशहूर इटली के लोगों को गले लगाने क्यों पहुंचे ??

#10 - पूरी दुनिया आज चीन और WHO को संदेह की नजर से देख रही है और ताज्जुब देखिए कि एक ही दिन चीन और WHO, दोनों भारत की तारीफ में उतर आए! क्या यह महज संयोग है?

और इसके अगले ही दिन भारत में चीन के राजदूत ट्वीट कर उम्मीद करते हैं कि भारत इंटरनेशनल कम्युनिटी में उसकी पैरवी करे। आखिर क्यों? नेहरू की एक गलती का खामियाजा हम भुगत चुके हैं। यह मोदी सरकार है, और उम्मीद है वह कम से कम वह गलती तो नहीं ही दोहराएगी?

India Vs China Vs World

सार्क (SARK) से लेकर G-20 तक की बैठक पीएम मोदी के कहने पर हो रही है‌। संकट के समय भारत वर्ल्ड लीडर के रूप में उभरा है। इटली, जर्मनी, स्पेन, फ्रांस, ब्रिटेन, अमेरिका तक जब कैरोना से निबटने में असफल हो रहे हैं तो पीएम मोदी की पहल पर भारत इससे कहीं बेहतर तरीके से डील कर रहा है।

चीन इसी का फायदा उठाकर यह चाहता है कि भारत इंटरनेशनल कम्युनिटी में उसके अछूतपन को दूर करे। अब यह नहीं होगा। चीन संदेह के घेरे में है और रहेगा…! यह इस युद्ध से एक सबक है !!!

हिंदी न्यूज़ में और अधिक पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे। Follow on Twitter or Subscribe us Youtube.