21 Days Lockdown करने से क्या होगा ? क्या Coronavirus खत्म हो जाएगा ?

Coronavirus-lockdown-india

भारत में पीएम मोदी जी ने 21 दिनों तक सम्पूर्ण Lockdown कर दिया है। हमे यह जानना बहुत जरुरी है की यह 21 Days Lockdown क्यों किया जाना चाहिए ? इससे क्या होगा ? क्या ऐसा करने से Coronavirus खत्म हो जाएगा ? क्या हमे 21 दिनों तक घर में ही बैठा रहना पड़ेगा ? घर में ही बैठे रहने से आखिर क्या होगा ?

देश में प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी ने Coronavirus Disease की स्तिथि की गंभीरता देखते हुए 24 अप्रैल की मध्यरात्रि से 21 दिनों तक सम्पूर्ण lockdown कर दिया है जो की जरुरी भी है। इससे पहले रविवार 22 अप्रैल को जनता कर्फ्यू पूरे 12 घंटो के किये किया गया था।

इस Lockdown के विषय में हमें कुछ बातो का ज्ञान होना जरुरी है---

What will happen with 21 Days Lockdown? Will the coronavirus end?

यह 21 Days Lockdown क्यों किया जाना चाहिए ?

आपको पता ही है कि विश्व स्वस्थ्य संगठन (World Health Organization - WHO) ने Coronavirus को महामारी घोषित कर दी है। ऐसे में लोगो को समझना चाहिए की वे इस महामारी से खुद को और अपने लोगो को बचने की लिए घर से बहार न निकले। क्योकि यह महामारी इंसानो से इंसानो में फेल रही है। और इसका स्त्रोत का पता लगाना काफी मुश्किल हो जाता है।

More We Recommend
सनी लियॉन कर रही है लॉकडाउन में लोगों का फुल ऑन एंटरटेनमेंट, देखे कैसे

तो इसे रोकने का सिर्फ एक ही उपाय है की लोग एक दूसरे के संपर्क में ना आये। इसलिए मोदी जी ने 21 दिनों तक का lockdown किया है और कहा है की जनता इसकी पालना जरूर करे और उन्हें करना भी चाहिए।

21 Dyas Lockdown से क्या होगा ? क्या ऐसा करने से Coronavirus ख़तम हो जाएगा ?

लोखड़ौन करने का सही तात्पर्य यही है की लोग एक दूसरे से ना मिले, घर पर ही रहे। ताकि यह दूसरे लोगो को संक्रमित न कर पाए। क्योंकि अभी तक इस महामारी का कोई इलाज नहीं मिला है इसलिए यह बहुत जरुरी हो जाता है कि लोगो को यह बीमारी न हो।

लोगो में यह भ्रम है की यह वायरस 7-8 घंटो में मर जाता है। किन्तु ऐसा नहीं है। यह वायरस भले ही ना जीने वाली चीज़ो जैसे, प्लास्टिक पेपर, बोतल , टेबल , कपडे... पर भले ही 7-8 घंटो तक जीवीत रह जाता है पर इंसानो में यह 3-4 दिनों तक जीवित रह सकता है।

क्योकि यह एक वायरस है। वायरस खुद से ज़िंदा नहीं रहते , निष्क्रिय बने रहते है जब तक कि उनको कोई स्त्रोत नहीं मिल जाता बढ़ने के लिए।

More We Recommend
ऐसे बिता रही है है कटरीना कैफ 21 Days Lockdown: कांताबेन 2.0 कर रही है झाड़ू पोछा

ऐसे में यह बहुत जरुरी है कि कोई निरोगी इंसान इसके संपर्क में ना आये। इसलिए इस लोखड़ौन को 21 दिनों तक रखा गया है ताकि इस कोरोना वायरस को पूरा पूरा देश से ख़तम किया जा सके।

क्या हमे 21 दिनों तक घर में ही बैठा रहना पड़ेगा ? घर में ही बैठे रहने से आखिर क्या होगा ?

कोरोना वायरस को जड़ से खत्म करने के लिए यह जरूरी है कि लोग घर में ही रहे, बाहर ना जाए। क्योकि अगर वो बाहर जाते है और किसी भी चीज़ का उपयोग करते है या बस छूते भी है तो यह आशंका बानी रहती है की उनको कोरोना हो जाए।

उन्हें पता भी नहीं चलेगा और वायरस उनके शरीर में आ जाएगा और घर जाकर वो अपने परिवार वालो को भी इस वायरस से संक्रमित कर देंगे। और पल भर में ही उनकी यह लापरवाही पूरे परिवार को ख़तम कर सकती है।

क्या आप चाहते है कि आपका परिवार आपके हाथों ही मर जाए ? क्या आप अपने परिवार को जीवित देखना नहीं चाहते ? उनको मरता हुआ देखना चाहते हो ?

अगर नहीं, तो इस बात को समझिये और घर से बाहर ना यथा संभव हो ना निकले। और पढ़ें कोरोना वायरस को रोकने में मदद करने वाली पांच चीजें.

Coronavirus_cure

21 Days Lockdown में आपको क्या करना है ?

इस समय आपको बस कुछ ही काम करने है --

  • घर से बाहर ना निकले, बहुत जरुरी ही काम हो , किसी को मेडिसिन की सख्त जरुरत हो , या घर में खाने का कुछ भी नहीं तभी बाहर निकले।
  • घर से बाहर जाते समय मास्क का उपयोग करें. बिना मास्क लगाए कही नहीं जाए।
  • अगर आप बहार से आये है तो अपने हाथो को जरूर धोये , सेनेटाइज़ करे, हो सके तो नहा ले।
  • घर में रहकर परिवार के साथ टीवी देखे, गेम्स खेले , आलसी बने। कुछ दिनों का आलसपन आपकी और आपके परिवार की जिंदगी को बचा सकता है।
More We Recommend
COVID19: भारत में 1 लाख से अधिक कोरोनोवायरस मामले, 3,163 मौतें

तो बस यही सब कुछ आपको इन २१ दिनों में करना है या यू कहे के कुछ भी नहीं करना है, आलसी बने रहना है।

आसानी से कोरोनोवायरस के लिए घर का बना प्राकृतिक हाथ सेनिटाइज़र बनाएं, यहाँ देखे विधि

और अधिक कोरोना वायरस नयी न्यूज़ , ब्रेकिंग हिंदी न्यूज़, समाचार के लिए यहाँ क्लिक करे . सोशल मीडिया ट्विटर पर हमें फॉलो करना ना भूले।

Moviespie.com - The New Era Of Media And Entertainment
Back To Top